बुधवार, दिसंबर 22, 2004

पाप नगरी

करीब एक महीना पहले मैं सपरिवार ३ दिन के लिए लास वेगास घूम के आया हूं. वैसे तो इस शहर को पाप नगरी (Sin City) के नाम से जाना जाता है लेकिन वहां पर ऐसा लग रहा था कि किसी भी पवित्र नगरी के मुक़ाबले में यहाँ पर ज़्यादा आनन्द है. हर आदमी अपनी धुन में मस्त था. कुछ क़िताबें कहतीं हैं कि चाहे आप इस शहर को पसंद कीजिए या फिर नफ़रत करें लेकिन एक बार देखें जरूर. मेरे अपने अनुभव के बाद मैं भी इस बात से कुछ हद तक सहमत हूं.


हम लोग वहां पर ३ दिन रहे. वैसे तो ये पाप नगरी वयस्क मनोरंजन के लिय॓ ज़्यादह मशहूर (या फिर बदनाम)है लेकिन हमे पारिवारिक द्रश्टिकोण से भी काफ़ी अच्छा लगा. मेरी पत्नि और बच्चे दोनों को वहां काफ़ी अच्छा लगा. रेगिस्तान के बीचोंबीच में ये आधुनिक स्वर्ग बसाया गया है. इस शहर के लोगों की जीवनधारा पर्यटन उधोग से जुड़ी है. पूरा शहर बड़े बड़े होटलों और सैलानियों से आबाद है.


यहां की सबसे मुख्य जगह है लास वेगास बुलेवर्ड रोड जिस के दोनों तरफ़ कसीनो होटेल हैं. इस मेन रोड को स्ट्रिप (Strip) कहते हैं. ज्यादातर समय लोग इसी स्ट्रिप के आसपास गुज़ारते हैं. हर होटेल काफी बड़ा है और होटेल की इमारत किसी न किसी थीम पर आधारित है. कोई मिस्र के पिरामिड की तरह बना है, कोई किले की तरह बना है , कोई महल की तरह बना है. हर होटेल में जुआघर (Casino) के साथ साथ मदिरापान , शापिंग बाज़ार और बच्चों के खेलने की जगहें हैं.


हर होटेल इस होड़ में लगा है कि कैसे ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को अपने होटेल की तरफ आकर्षित किया जा सके. इसलिए हर होटेल में तरह तरह के मनोरंजक प्रोग्राम जैसे कि सर्कस , जिमनास्टिक , ड्रामा इत्यादि चलते रहते हैं. यहाँ पर हर चीज़ भव्य स्तर पर बनायी जाती है. कहते हैं कि जैसे ही कोई होटेल १०‍-१५ साल पुराना हो जाता है उसे तोड़ के उसी जगह पर नये नाम से एक नया होटेल बना दिया जाता है.


लास वेगास से एक दिन का बस टूर लेके हम लोग भव्य गहरी घाटी (Grand Canyon) देखने गये. ये कैन्यन वाकई भव्य और बहुत ही ख़ूबसूरत है. कुदरत का ये करिश्मा वाकई लाज़वाब है. ये गहरी घाटी काफ़ी बड़ी है और इसे तीन तरफों से देखा जा सकता है. हम लोग पश्चिमी हिस्से की तरफ से देखने गये थे. यहां के हिस्से के आसपास की जमीन सरकार ने अमेरिकन मूलनिवासियों की हुआलापाई जाति को दे रखी है और इसका नाम है हुआलापाई इंडियन रिज़र्वेशन.

Comments: एक टिप्पणी भेजें

Links to this post:

एक लिंक बनाएँ



<< Home

This page is powered by Blogger. Isn't yours?